जाने टेलीविजन का आविष्कार किसने और कब किया

Question : Who did the invention of television and when?

Answer : The name of the scientist invented the television, that is, John Logie Baird or J.L. Baird was, he made a new thing on October 2, 1925, in his machine to convert light into electric rays and turned on his device, and he saw that the whole picture emerged. And he became the inventor of television.

टेलीविजन यानि TV का आविष्कार करने वाले वैज्ञानिक का नाम जॉन लॉगी बेयर्ड या J.L. Baird था| इनका जन्म 13 अगस्त 1888 को हैलेंसबर्ग (ग्लैसगो) में हुआ था| वे चार बहन-भाई थे| वे सब भाई-बहन में सबसे कमजोर काया के थे| वे पढ़ने में बहुत ज्यादा रूचि रखते थे| उस समय पर विद्यालय में फोटोग्राफी पर बहुत जोर दिया जाता था| उन्हें फोटोग्राफी में इतनी रूचि थी कि वे इसके अध्यक्ष ही बन गये| इसमें उनकी रूचि इतनी थी कि उन्होंने एक दूरदर्शन लाइन ही बना डाली और उसे अपने मित्रों के घर से जोड़ दिया|
बेयर्ड शुरू से ही बहुत ही मेहनती और जिज्ञासु स्वभाव के थे| वे हर एक चीज की तह तक जाते थे| बेयर्ड ने जब अपनी स्कूल की पढाई पूरी कर ली ,तो उन्होंने ग्लैसगो में स्थित रॉयल टेक्नीकल महाविद्यालय में विज्ञान की पढाई की| इसके बाद बेयर्ड ने एक इलेक्ट्रोनिक कंपनी में काम किया| लेकिन उनका मन वह पर भी नहीं लगा| इसके बाद बेयर्ड ने जैम व चटनी का बिजनेस किया लेकिन ये बिजनेस भी ज्यादा दिन तक नहीं चला|
1922 में बेयर्ड लंदन गये तो वे बेरोजगार थे| उसी खाली समय में उनके मन में एक बात आयी की वे टेलीविजन को बनाने की कोशिश करेगें| बेयर्ड जिस यंत्र को बनाना चाहते थे उसे पहले भी कई वैज्ञानिक बनाने की कोशिश कर चुके थे| लेकिन कोई भी इस कार्य को सफलतापूर्वक कर नहीं पाया था|

टेलीविजन का आविष्कार किसने किया और कब किया, टेलीफोन का आविष्कार किसने किया, रेडियो का आविष्कार किसने किया, टेलीविजन का अर्थ, आविष्कार और आविष्कारक का नाम
बेयर्ड ने सबसे पहले उन वैज्ञानिकों के प्रयोगों का निरीक्षण किया ,जिन्होंने टेलीविजन को बनाने की कोशिश की थी| उसके बाद बेयर्ड ने सिलेनियम सेल ,नियोल लैम्प ,रेडियो वाल्व आदि सामान लेकर अपना प्रयोग करना प्रारम्भ किया| कई महीनों व सालों के कठिन परिश्रम के बाद 1924 में बेयर्ड एक मल्टी क्रास की इमेज को 3 गज की दुरी तक प्रसारित करने में सफल हो ही गये| लेकिन ये तो टीबी बनने की केवल शुरुआत ही थी| बेयर्ड ने इस पर ओर अधिक काम करना शुरू कर दिया| उन्होंने 2 अक्टूबर 1925 को अपने यंत्र में प्रकाश को विद्युत् किरणों में परिवर्तित करने के लिए एक नई चीज लगाई और अपने उपकरण को चालू किया तो उन्होंने देखा कि उसमे पूरा चित्र उभर कर आ गया| इसे देखकर वे खुशी के मारे उछल पड़े क्योंकि उन्होंने उस समय टेलीविजन का इतिहास रच दिया था ,और वे टेलीविजन के आविष्कारक बन गये थे| इस प्रकार 1925 में बेयर्ड ने टेलीविजन में मानव के चेहरे का प्रसारण किया| इसके बाद बेयर्ड इस क्षेत्र में एक के बाद एक सफलता हासिल करते रहे और फिर उन्होंने रंगीन टीबी बने का सोचा ओर उस पर काम करना चालू कर दिया काफी हद तक काम हो भी गया था, लेकिन वे इस काम को पूरा नहीं कर पाये तथा 14 जून 1946 में उनका निधन हो गया| उनके मरने के बाद हैलेंसबर्ग में उनकी प्रतिमा बनायी गई ,जो आज भी स्थित है|

Sponsored Links

Sponsored

Subscribe Us

नयी और पुरानी जानकारियाँ अपनी ईमेल बॉक्स में पाए, अपनी ईमेल ID नीचे भरे.:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.