Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Was Narendra Modi predicted by Nostradamus?

नास्त्रेदमस की सांकेतिक भविष्यवाणी को सही माना जाये तो मोदी भारत ही नहीं वरन पूरी एशिया पर शासन करेंगे। आज से करीब 450 साल पहले 14 दिसम्बर 1503 को फ्रांस में जन्मे मिशेल डी नास्त्रेदमस को ज्योतिष के मामले में प्रसिद्धी हासिल की। नास्त्रेदमस ने किशोरावस्था से ही भविष्यवाणियां करना शुरू कर दी थी। ज्योतिष मे उनकी बढती दिलचस्पी ने माता-पिता को चिंता मे डाल दिया क्योंकि उस समय कट्टरपंथी ईसाई इस विद्या को अच्छी नजर से नही देखते थे। ज्योतिष से उनका ध्यान हटाने के लिए उन्हे चिकित्सा विज्ञान पढने मांट पेलियर भेज दिया गया जिसके बाद तीन वर्ष की पढाई पूरी कर नास्त्रेदमस चिकित्सक बन गए।

1550 के बाद नास्त्रेदमस ने चिकित्सक के पेशे को छोड अपना पूरा ध्यान ज्योतिष विद्या की साधना पर लगा दिया। उसी साल से अन्होंने अपना वार्षिक पंचाग भी निकालना शुरू कर दिया। उसमें ग्रहों की स्थिति, मौसम और फसलों आदि के बारे मे पूर्वानुमान होते थे। कहा जाता है कि उनमें से ज्यादातर सत्य सावित हुई। नास्त्रेदमस ज्योतिष के साथ ही जादू से जुडी किताबों मे घंटो डूबे रहते थे।
नास्त्रेदमस को उनकी 1555 में आई पुस्तक लेस प्रोफेटिज के लिए जाना जाता है। उनकी भविष्यवाणियों में से ज्यादातर सही साबित हुई। इनमें से एक भविष्यवाणी भारत को लेकर भी है।

Quatrain 50, Century L
From the peninsula where three seas meet,
Comes the ruler to whom Thursday is holy,
His wisdom and might all nations will greet,
To oppose him in Asia will be folly.

(सेंचुरी 1-50वां सूत्र)

‘तीन ओर घिरे समुद्र क्षेत्र में वह जन्म लेगा,
जो बृहस्पतिवार को अपना अवकाश दिवस घोषित करेगा।
उसकी प्रसंशा और प्रसिद्धि, सत्ता और शक्ति बढ़ती जाएगी
और भूमि व समुद्र में उस जैसा शक्तिशाली कोई न होगा।’

 

Long awaited, he will not take birth in Europe,
India will produce the immortal ruler,
Seeing wisdom and power of unlimited scope,
Asia will bow before this conquering scholar.

नास्त्रेदमस ने नरेंद्र मोदी के बारे में भविष्यवाणी करते हुए कहा था

कि भारत में एक शक्तिशाली व्यक्ति का युग आयेगा
और देश महाशक्ति बनकर उभरेगा यही नहीं भारत का पूरा वजूद बदल जायेगा।

 

टीकाकारों का मत है कि ये भविष्यवाणी थी जिस देश-काल-वातावरण और व्यक्ति के बारे में की गयी थी वो पूरी तरह से नरेंद्र मोदी पर सटीक बैठती है। नास्त्रेदमस ने कहा था कि एकअजेय शासक यूरोप की जगह भारत में जन्म लेगा। इसके बुद्धि-चातुर्य और ताकत की वजह से यह एशिया पर राज करेगा। जिससे शुरुआत में लोग बहुत ही नफरत करेंगे लेकिन बाद में जनता और बाकी सभी लोग उसे उतना प्‍यार देंगे कि वह अगले 20 साल तक भारत का प्रधानमंत्री रहेगा। नास्त्रेदमस ने यह भी कहा कि उसका जन्म संसार में वहां होगा जहां तीन समुद्र आकर मिलते हैं। उस शासक के लिए पवित्र दिन गुरूवार होगा। विश्व में एक ही जगह है जहां तीन समुद्र मिलते हैं, वह है हिन्द महासागर। साथ ही गुरूवार का दिन केवल सनातन धर्म में ही पवित्र माना जाता है। मुस्लिम शुक्रवार को, यहूदियों में शनिवार को और ईसाईयों में रविवार को पवित्र माना जाता है। नास्त्रेदमस ने यह साफ-साफ कहा है कि भारत का यह शासक एशिया को अपने शासन से जोड़ेगा। भविष्यवाणी संकेतों की व्याख्या करने पर पता चलता है कि भारत और रूस पहले से कहीं ज्यादा निकट आ जायेंगे। ध्यान रहे, नास्त्रेदमस ने अमेरिका के ट्विन टॉवर पर हमले के जैसे संकेत दिए थे, ठीक वैसा ही हमला हुआ।

हालांकि ज्यादातर जानकार मानते हैं कि दुनिया का ‘मुक्तिदाता’ भारत में ही जन्म लेगा। कहीं ऐसा तो नहीं कि उस ‘महापुरुष’ ने जन्म ले लिया हो और वह राजनीति में सक्रिय भी हो। वह राजनेता होगा या धर्मयोद्धा यह कहना मुश्किल है। इसके अलावा उन्होंने सोवियत रूस के विघटन,ईसाईयत-इस्लामियत की जंग, खाड़ी युद्ध और मध्य एशिया में विप्लव के संकेत अपनी भविष्यवाणी में दिये जो आगे चलकर सटीक निकले।

Sponsored

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.