सुहागा तो आप सब लोगों ने देखा ही होगा| यह फिटकरी की तरह दिखाई देने वाला क्रिस्टलीय ठोस पदार्थ है| यह बहुत ही लाभकारी होता है| बच्चों को जब घर पर घूटी बनाकर दी जाती है तो उसमे सुहागा भी शामिल होता है| सुहागा का इस्तमाल करने से पहले इसे तवे पर सेक लिया जाता है ऐसा करने से सुहागा फूल जाता है और बिल्कुल सफेद दिखने लगता है| कच्चे व भुने दोनों प्रकार से सुहागा का सेवन किया जाता है| सुहागे का उपयोग प्राचीन समय से औषधि के रूप में होता चला आ रहा है| सुहागा को लेने से बहुत सारी बीमारियाँ दूर हो जाती है|

सुहागा के विभिन्न नाम –

टंकण ,सुहागाचौकी ,कनक क्षार ,धातु द्रावक आदि|

Suhaga kaha milta hai –

कश्मीर ,लद्दाख ,तिब्बत ,इटली ,रूस चिली ,कनाड़ा टर्की आदि देशों में पाया जाता है|

suhaga price, suhaga powder benefits in hindi, suhaga patanjali, fitkari and suhaga, suhaga for asthma, suhaga kaise use kare, suhaga benefits for weight loss suhaga ko english me kya kehte hain

Suhaga के Fayade –

सुहागा का सेवन करने से बहुत सारे फायदे या लाभ होते है जो इस प्रकार है –

  • सुहागा को भुनकर खाने से पेट से संबंधित सभी प्रकार की बीमारिया दूर हो जाती है|
  • अगर छोटे बच्चे को दस्त लग रहे है तो भुने हुए सुहागे को घूटी में मिलाकर दे, इससे दस्त बंद हो जायेंगे|
  • अगर आपका बच्चा दूध पीने के बाद बार-बार मुंह से दूध निकाले तो ,भुना हुआ सुहागा दूध में मिलाकर 2-3 बार पिला दे ,तो बच्चे का पाचनतंत्र सही हो जायेगा|
  • चर्मरोग होने पर सुहागे का तेल लगाये ,जिससे चर्मरोग ठीक हो जाता है|
  • अगर आपके पसीने से दुर्गन्ध आती है ,तो नहाने के पानी में 1 चम्मच सुहागा मिलाकर उससे नहाये तो दुर्गन्ध आना बंद हो जाएगी|
  • सर्दी-जुखाम होने पर गर्म पानी में भुना हुआ सुहागा मिलाकर 2-3 बार पीने से सर्दी में आराम मिलता है|
  • अगर बच्चे को खांसी आ रही हो ,तो सुहागे को शहद के साथ मिलाकर दे| इससे खांसी आना बंद हो जाएगी|
  • अंडकोष को बढ़ाने में भी सुहागा का सेवन लाभदायक है|
  • भुने सुहागे को कोयले के साथ पीसकर मंजन बना ले और उससे रोज दांत साफ करे ऐसा करने से दांत साफ व मजबूत होते है तथा दांतो में पायरिया जैसा रोग भी नहीं होता है|
  • काली खांसी होने पर सुहागे का शहद के साथ सेवन करने से इसमें आराम मिलता है|
  • अगर छोटे बच्चों के दांत निकल रहे है ,तो उनके मसूडों पर भुना सुहागा व शहद को एक साथ मिलाकर धीरे-धीरे मले ,ऐसा करने से दांत आसानी से निकल आते है|
  • बालों के झड़ने पर कच्चे सुहागे को पीसकर पानी में मिलाकर ,उस पानी से बाल धोने से बाल झड़ना बंद हो जाते है तथा बालों में जुएँ भी नहीं होते है|
  • मुहँ की दुर्गन्ध ,मुहँ के छाले तथा मुहँ से संबंधित होने वाले अनेक रोगों को दूर करने में भी सुहागा लाभदायक होता है|
  • सुहागे को घाव पर लगाने से घाव जल्दी भर जाता है|
  • चीनी मिट्टी के बर्तनों को चमकाने के लिए सुहागे का इस्तमाल किया जाता है|
  • सोने को गलाने में भी सुहागे का प्रयोग होता है|
  • सुहागा का उपयोग पानी को मृदु बनाने में किया जाता है|
  • उर्वरक के रूप में भी सुहागे का उपयोग किया जाता है|
  • बादाम के तेल में सुहागा मिलाकर लगाने से चेहरे की झाई खत्म हो जाती है|
  • गले के बैठ जाने पर कच्चे सुहागे को चूसे ,इससे गला ठीक हो जायेगा|

Suhaga के Nuksan –

सुहागा वैसे तो बहुत फायदेमंद है तथा बहुत सारे रोगों से हमें छुटकारा भी दिलाता है लेकिन फिर भी इससे होने वाले कुछ नुकसान भी है जो इस प्रकार है –

  • सुहागे का सेवन या प्रयोग उचित मात्रा में ही करना चाहिए ,अगर ऐसा न किया जाये तो यह हमारे लिए नुकसानदायक हो सकता है|
  • महिलाओं द्वारा इसका अधिक सेवन किये जाने पर उनकी प्रजनन क्षमता कम हो सकती है तथा मासिक स्त्राव अधिक भी हो सकता है|
  • गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए|
  • इसका आवश्यकता से अधिक सेवन करने से हमारे शरीर की हड्डियाँ भी प्रभावित हो सकती है|
  • अधिक सेवन करने से पेट में जलन भी हो सकती है|
  • बच्चों को भी इसकी उचित मात्रा ही देना चाहिए ,नहीं तो बच्चों को जान का खतरा भी हो सकता है|
  • सुहागे के अधिक सेवन से मुंह सूखना ,नाक से खून गिरना ,दम घुटना ,सुखी खांसी आना तथा गले में खराश आने जैसी कई सारी समस्याएं उत्पन्न हो सकती है|