जाने भारत की पहली महिला पायलट : सरला ठकराल

आज हम आपको भारत की पहली महिला पायलट के बारे में बताने जा रहे है| जिसने पहली बार विमान उड़ाकर लोगों को ये बता दिया कि महिलाये केवल घर ही नहीं चला सकती ,बल्कि चाहे तो एक विमान भी चला सकती है| यह कारनामा जिस महिला ने पहली बार कर के दिखाया ,उस महिला का नाम सरला ठकराल है| इन्होने मात्र 21 साल की आयु में 2 सीटों वाले जिप्सी माँथ विमान को साड़ी पहनकर उड़ाया ,जिसे देखकर लोग हैरान रह गये| और ये कारनामा उन्होंने आजादी से पहले कर के दिखाया ,जब महिलाओं को पुरुष से बहुत कमजोर समझा जाता था| लेकिन सरला ठकराल ने ये साबित करके दिखाया कि अगर इच्छा शक्ति प्रबल हो तो एक महिला सफलता पूर्वक वे सारे काम कर सकती है जो एक पुरुष कर सकता है|

सरला ठकराल का जन्म 1914 में दिल्ली में हुआ था| वे पढ़ने में बहुत तेज थी उन्होंने शुरू से ही सोच लिया था कि वे पायलट बनेगी इसलिए 1929 में दिल्ली के एक फ्लाइंग क्लब में विमान उड़ाने का उन्होंने प्रशिक्षण लिया और 1000 घंटे का अनुभव लेने के बाद A लाइसेंस प्राप्त किया था| इस फ्लाइंग क्लब में उनकी मुलाकात पी. डी. शर्मा से हुई जो कि एक व्यावसायिक विमान चालक थे| पी. डी. शर्मा के साथ उन्होंने शादी कर ली| उनके पति ने उनके विमान उड़ाने के अच्छे अनुभव को देखकर व्यावसायिक चालक बनने के लिए प्रोत्साहित किया| अपने पति के कहने पर वे जोधपुर फ्लाइंग क्लब में व्यावसायिक चालक की ट्रेनिंग के लिए चली गई| फिर 1936 में वह ऐतिहासिक दिन आया जब लाहौर के हवाई अड्डे पर 21 साल की उम्र में सरला ठकराल ने साड़ी पहनकर पहली बार अकेले ही जिप्सी माँथ विमान को उड़ाया और वे भारत की पहली महिला पायलट बन गई तथा इसके साथ साड़ी पहनकर विमान उड़ाने वाली भी वे पहली महिला पायलट बन गई|

जब वे अपनी ट्रेनिंग कर रही थी तो उसी दौरान 1939 में उनके पति का एक विमान दुर्घटना में निधन हो गया ,जब उनके पति का निधन हुआ तब सरला केवल 24 साल की थी और उनकी 2 बेटियां भी थी| उसी समय दूसरा विश्व युध्द छिड़ गया और जोधपुर फ्लाइंग क्लब भी बंद हो गया था| अपने पति के निधन के बाद सरला ठकराल अंदर से बहुत टूट गई थी| जिस कारण उन्होंने अपने जीवन की दिशा बदल ली और अपनी 2 बेटियों के साथ भारत लौट आई ,और उनके माता-पिता ने उनकी दूसरी शादी पी. पी. ठकराल से करा दी| इसके बाद सरला एक सफल व्यवसायी व पेंटर बनी और इसके साथ ही कपड़े व गहने भी डिजाइन करती थी| वे अपनी डिजाइन की गई चीजें कुटीर उघोगों को देती थी|

What is the name of India’s first female pilot?
Sarla Thakral. Sarla Thakral (1914 – 15 March 2008) was the first Indian woman to fly an aircraft. Born in 1914, she earned an aviation pilot license in 1936 at the age of 21 and flew a Gypsy Moth solo.

15 मार्च 2008 को सरला ठकराल का निधन हो गया|

 

Tags : first female pilot in indian navy, list of female pilots in india, first indian woman pilot captain, first woman pilot in india in marathi, india’s first woman pilot information in marathi, first lady pilot,first lady pilot hindi, hindihaihum,

Sponsored Links

Sponsored

Subscribe Us

नयी और पुरानी जानकारियाँ अपनी ईमेल बॉक्स में पाए, अपनी ईमेल ID नीचे भरे.:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.