जाने भारत की पहली रेलगाड़ी महिला चालक : सुरेखा यादव

Know India’s first train female driver: Surekha Yadav

आज हम जिस महिला के बारे में आपको बताने जा रहे है ,उस महिला का नाम सुरेखा यादव है| यह भारत की पहली रेलगाड़ी चालक महिला है| जिन्होंने रेलगाड़ी को चलाकर यह बता दिया कि एक महिला चाहे तो कुछ भी कर सकती है| केवल उसके अन्दर उस काम को करने की मजबूत इच्छाशक्ति होनी चाहिए|

Know About India’s first female Train Loco Pilot.
Surekha Shankar Yadav (born 2 September 1965) is a India’s first female Train loco pilot (train driver) of the Indian Railways in India,. Surekha Yadav became India’s first female train driver in 1988.

सुरेखा यादव का जन्म 2 सितंबर 1965 में सतारा (महाराष्ट्र) में हुआ था| उनके पिता का नाम रामचंद्र भोंसले और माता का नाम सोनाबाई था| सुरेखा अपने सभी भाई-बहनों में सबसे बड़ी हैं| उन्होंने अपनी प्रारम्भिक पढाई कान्वेंट स्कूल से की| इसके बाद उन्होंने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया|

सुरेखा गणित से बीएससी व बीएड करके एक शिक्षक बनना चाहती थी| परन्तु रेलवे में असिसटेंट ड्राईवर में खाली पदों पर भर्ती निकली ,और उन्होंने इसमें आवेदन डाल दिया| क्योंकि सुरेखा ने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया था इसलिए वे इस भर्ती के योग्य थी| तथा वे इस भर्ती की परीक्षा की तैयारी करने लगी|

जब सुरेखा इस भर्ती की परीक्षा देने पहुची तो उन्होंने देखा कि परीक्षा देने केवल लड़के ही आये थे उसमे कोई लड़की नहीं थी| क्योंकि इस क्षेत्र में केवल लड़के ही नौकरी करते थे| लेकिन यह सब देखकर भी वे पीछे नहीं हटी और उन्होंने परीक्षा दी|

परीक्षा देने के बाद सुरेखा इस परीक्षा में पास हो गई और इसके बाद साक्षात्कार की परीक्षा में भी वे पास हो गई| जिसके बाद उन्हें असिसटेंट ड्राईवर की ट्रेनिंग के लिए भेज दिया गया| लेकिन उनके शिक्षक बनने का सपना अधुरा ही रह गया| उनकी यह ट्रेनिंग 6 महीने तक कल्याण ट्रेनिंग स्कूल में चली| ट्रेनिंग पूरी होने के बाद उन्हें 1988  में असिसटेंट ड्राईवर के पद पर नियुक्त कर दिया गया| इस प्रकार सुरेखा भारत की पहली महिला रेलगाड़ी चालक बन  गई| सुरेखा ने पहली बार देवियो स्पेशल स्थानीय ट्रेन को चलाया था|

सुरेखा ने 1990 में महाराष्ट्र पुलिस निरीक्षक शंकर यादव से शादी कर ली| सुरेखा को 1998 में माल गाड़ी का ड्राइवर बना दिया गया| इसके बाद सुरेखा ने कभी भी पीछे पलटकर नहीं देखा| वे एक के बाद एक सफलता हासिल करती ही चली गई| उनके लिए सबसे सुनहरा दिन वो था जब 2011 में महिला दिवस के दिन उन्हें एशिया की पहली महिला ट्रेन ड्राइवर की उपाधि मिली ,इसके साथ ही वे न केवल भारत की बल्कि एशिया की पहली महिला रेलगाड़ी चालक बन गई|

Tags : first in india, first loco piolet, first female train driver, general knowledge, gk in hindi, general knowledge in hindi, female railway driver,

Sponsored Links

Sponsored

Subscribe Us

नयी और पुरानी जानकारियाँ अपनी ईमेल बॉक्स में पाए, अपनी ईमेल ID नीचे भरे.:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.