5
(1)

Know the Importance Role of Off-page SEO and On-Page SEO for Top Ranking Blogs and Website

अगर आप blog या website बनाकर ऑनलाइन पैसा कमाना चाहते है तो आपको SEO की जानकारी होना बहुत जरुरी है कि आखिर ये होता क्या है? ,जरुरी क्यों है? ,और यह किस प्रकार से काम करता है|

अगर आप फ्री में वेबसाइट बनाना चाहते है या ब्लॉग या ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट बनाना सीखना चाहते है तो यहाँ आप सीख सकते है।

अगर आपके पास पहले से वेबसाइट है या ब्लॉग है ऐसे पढना बहुत जरुरी है . अगर नही है तो भी आप बनाने से पहले सीख लिजिए.

Online marketing इन्ही तीन शब्दों पर निर्भर करती है इसलिए सभी blogger और ऑनलाइन कंपनियां अपने SEO पर ज्यादा ध्यान देते है क्योंकि इसके अन्दर ऐसे rules होते है जो आपके blog या website को top पर लाते है| जिसके कारण blog पर traffic बढ़ता है| पर आपका उदेश्य ब्लॉग पर ट्रैफिक बढ़ाना ही नहीं होना चाहिए बल्कि उसे Top Ranking Blogs or Top Ranking Websites बनाने पर फोकस करना चाहिए।

तो दोस्तों SEO के बारे में विस्तार से जानते है –

SEO क्या है? (What is SEO?)

SEO का पूरा नाम सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (Search Engine Optimization) है| यह एक प्रकार का web पर आधारित tool या करने या समझने कि कला है है जो आपकी website या blog को search engine में top पर लाने का काम करता है और traffic भी बढ़ता है| जो भी blogger इसके rules को सही ठंग से follow करते है उनका blog हमेशा top पर रहता है|

इसे हम और सरल भाषा में समझते है जैसे कि हम जानते है कि Google सबसे लोकप्रिय search engine है| इस search engine में जब हम कोई शब्द type करते है तो उस शब्द से संबंधित बहुत सारे contents सामने आ जाते है| जो कि सभी अलग-अलग blog से होते है| Google में जो कंटेंट्स पहले number पर दिखाई देता है इसका मतलब वह google में top की rank पर है अत: इसके SEO को blog या website में बहुत सही ठंग से use किया गया है जिसके कारण उसे ज्यादा लोग देखते है|

क्योंकि google में जो website या blog सबसे पहले number पर होती है इंटरनेट users उसे ही पहले visit करते है इसके बाद दूसरी site देखते है| इसलिए अपनी वेबसाइट या blog पर traffic बढ़ाने के लिए SEO का use करना बहुत जरुरी होता है|

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (एसईओ) को सीखना कोई बड़ी बात नहीं है। इसको बिलकुल एकाग्र चित्त होकर समझना चाहिए। सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (एसईओ) का तात्पर्य अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को सर्च इंजन और उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाना होता है।

उदाहरण के लिए –
सर्च इंजन आपकी वेबसाइट को चेक करता है की ये मोबाइल पर सही से खुलती है या नहीं।
आपको इसे चेक करना होगा और सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (एसईओ) के निर्देशानुसार कुछ बदलाव करने होते है।

इसे आप ऐसे भी समझ सकते है की आपके वेब पेज की ऐसी छोटी मोटी समस्याएं जिनके कारण सर्च इंजन आपकी वेबसाइट को पूरी तरह से क्रॉल (स्कैन) नहीं कर पता है। या यूजर आपकी वेबसाइट पर आता है और उसे कुछ न कुछ सुविधा होती है।
तो इन दोनों ही स्थिति में आप कितनी भी मेहनत करे अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर उसका पूरा फल नहीं मिलेगा।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (SEO) किसको सीखने की जरुरत है?

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन नीचे दिए गए इन सभी लोगो के लिए बहुत जरुरी है जो कही न कही इनसे जुड़े है।

  • ब्लॉग या वेबसाइट मालिकों के लिए
  • उनके लिए जो डिजिटल मार्केटिंग में जॉब ढूढ रहे है या कर रहे है।

लेकिन एससीओ के बारे में जानने से पहले कुछ जरुरी जानकारी आपको पहले पता होनी चाहिए जैसे –

सर्च इंजन क्या है?

सर्च इंजन भी एक तरह की वेबसाइट है जिसका काम इंटरनेट पर प्रतिदिन बनने वाली नयी-नयी सामग्री को अपने सर्वर पर इकठ्ठा करना और जब कोई व्यक्ति, इस सर्च इंजन पर कुछ भी सर्च करता है तो इसी सामग्री ( Text, Video, Audio, images) में से ढूढ कर आपको प्रस्तुत करता है।

सर्च इंजन कैसे काम करता है? उसमे SEO का क्या योगदान है?

इसे ऐसे समझते है –
सर्च इंजन (Search Engine ) – मान लो एक प्रकार की खोजी वेबसाइट या खोजी संस्था। जिसका काम सिर्फ लोगो के लिए खोजना है जो भी वो सर्च करे।

गूगलवोट (Googlebot) – ये एक तरह का रोबोट सॉफ्टवेयर होते है जो हर वेबसाइट पर जा जाकर वहाँ से सूचनाएं एकत्रित करता रहता है। और इंटरनेट पर उपलब्ध नए, पुराने, अपडेटेड कंटेंट को अपने सर्वर में भेजने में या इकठ्ठा करने में लगा रहता है।

क्रॉल (Google Crawl) – यह नए या अपडेट किए गए वेब पेजों को खोजने की प्रक्रिया है. Google लिंक पर जाकर, साइटमैप पढ़कर और कई दूसरे तरीकों से यूआरएल की खोज करता है. Google नए पेज खोजने के लिए वेब क्रॉल करता है, फिर उन्हें (जब उचित हो) इंडेक्स करता है.
क्रॉलर (Google Crawler) – अपने आप काम करने वाला सॉफ़्टवेयर जो वेब से पेज क्रॉल करता (पाता है) है और उन्हें इंडेक्स करता है.

इंडेक्स – (Google Indexing) – इंडेक्स में उन सभी वेब पेज को स्टोर करता है जिनके बारे में उसे जानकारी है. हर पेज के लिए इंडेक्स दर्ज करने से उस पेज की सामग्री और जगह (यूआरएल) की ब्यौरा मिलता है. जब Google कोई पेज लेता है उसे पढ़ता है और उसे इंडेक्स में जोड़ता है, तो इसे इंडेक्स करना कहा जाता है : Google ने आज मेरी साइट पर कई सारे पेज इंडेक्स किए.

एसईओ (SEO) – सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन के द्वारा ही हम अपने वेब पेज को इस तरह सुधारते रहते है ताकि गूगलबोट आपकी वेबसाइट को बिना किसी समस्या के स्कैन करता रहे। गूगल क्रॉलर आपकी वेबसाइट को क्रॉल करके अपने सर्वर में इंडेक्स के लिए आपके वेब पेज की लिस्ट और उसकी सामग्री को अपने सर्वर में भेजता रहे। अगर इस प्रक्रिया में कही कोई समस्या आती है जैसे प्रोग्रामिंग की, आपके होस्टिंग सर्वर की या वेबसाइट डिज़ाइन इत्यादि की तो आप इन error को Google Webmaster Tool और Search Console में देख सकते है। और उन्हें सुधार सकते है। हमें लगता है इससे अच्छा सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन का उदाहरण इंटरनेट पर शायद ही उपलब्ध हो।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (SEO)  के प्रकार (Type of SEO) –

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (SEO) को डिजिटल मार्केटिंग करने वाले लोगो ने दो प्रकार से विभाजित किया है।

  1. On page SEO (सरल भाषा में अपनी वेबसाइट पर )
  2. Off page SEO (सरल भाषा में दूसरी वेबसाइटस पर)

अब हम आपको यह बताते है कि ये दोनों एस-सी-ओ किस प्रकार से कार्य करते है|

  1. On page SEO : अपने article (post) को publish करने के पहले यानि लिखते या update करते समय जिस SEO से article को optimize करते है उसे on page SEO कहते है|

आसान शब्दों में कहे तो On page SEO में हम blog के design optimization  से लेकर post publish करने तक के सारे काम करते है जैसे –

  • अच्छे content लिखना जिसमे सारी जानकारी हो और viewer को पसंद आए|
  • Page की speed अच्छी हो ताकि वह कम समय में ही खुल जाए|
  • अपने blog के लिए meta description लिखना|
  • अच्छे keywords का use करना जो search engine में सबसे ज्यादा खोजे जाते हो|
  • Keyword का सही जगह पर use करना जैसे meta description ,title ,content आदि जगह पर ,ऐसा करने से गूगल को यह जानने में आसानी होती है कि article किस पर लिखा गया है|
  • Headings का सही use करना|
  • Responsive theme का use करना जो mobile friendly हो|
  • Internal and External linking करना|

यह सभी काम on page SEO में किए जाते है इन्हें ठीक तरीके से करने पर search engine हमारे blog को आसानी से rank करा देता है जिससे हमारे blog पर अच्छा traffic आता है|

  1. Off page SEO : Post को publish करने के बाद उसे rank करने के लिए हम जिन तरीकों का use करते है उसे off page SEO कहते है|

Off page SEO से हम अपने blog को promote करते है| इसे निम्न प्रकार से किया जा सकता है जैसे –

  • अपने blog या वेबसाइट को सभी search engine में submit करना|
  • अपने blog या website का link social media पर add करना|
  • Free classified वेबसाइट में जाकर अपने blog या website का free में प्रचार करना|
  • अपनी पोस्ट को bookmarking वाली website में submit करना|
  • अपने blog या वेबसाइट से related blog पर जाकर guest post करना|
  • अपने blog या वेबसाइट की image को pinterest पर पोस्ट करना|
  • अपने ब्लॉग या वेबसाइट की बैकलिंक बनाना

यह सभी तरीके off page SEO के अंदर आते है जो हमारी वेबसाइट या blog को promote करने में help करते है|

SEO के महत्त्वपूर्ण Terms –

SEO क्या होता है ये जानने के साथ-साथ आपको SEO के इन basic terms के बारे में भी मालुम होना चाहिए जो कि इस प्रकार है –

  • Title tag : यह web page का टाइटल होता है जो कि गूगल search algorithm के लिए बहुत महत्वपूर्ण factor है|
  • Meta tag : यह tag search engine को यह बताता है कि page में content में क्या है|
  • Backlink : यह एक hyperlink है जो दूसरी website से आपकी website को किया गया होता है| यह link किसी भी webpage की search रैंकिंग को directly influence करता है|
  • SERP : इसका पूरा नाम Search Engine Result Page है| यह केवल उन्ही page को दिखाता है जो गूगल के हिसाब से relevant हो|
  • Anchor taxt : किसी दुसरे web page या image को link करने के लिए इसका use किया जाता है|
  • Robot text : यह एक communicate art है जो यह बताता है कि कौन सी website या webpage को intex करना है और किसको नहीं|
  • Pagerank : Pagerank एक algorithm है जो गूगल use करता है, यह बताने के लिए की quality व SEO के हिसाब से आपकी वेबसाइट की rank क्या है|
  • Keyword density : इससे यह पता चलता है कि कौन सा keyword article में कितनी बार use किया गया है|
  • Sitemap : इसमें आपके blog या वेबसाइट की सारी जानकारी होती है|
  • Keyword stuffing : अगर article में किसी keyword को जरूरत से ज्यादा use करते है तो उसे keyword stuffing कहते है|
  • Alt text : इस text के माध्यम से search engine को यह पता चलता है कि webpage में डाली गई image किससे संबंधित है|

SEO जरुरी क्यों है? (Why is SEO (Search Engine Optimization) important?

जब हम कोई website या blog बनाते है तो हमारा केवल एक ही उद्देश्य होता है कि हमारी इस site व blog को सब कोई देखे और इस पर अधिक से अधिक traffic हो ,जिससे हम ज्यादा से ज्यादा पैसा कमा सके लेकिन ऐसा तभी संभव होता है जब हम अपनी website या blog में SEO का सही ठंग से use करते है क्योंकि यह हमारे blog या वेबसाइट को गूगल में top पर लाने में help करता है और traffic बढ़ाता है|

अगर हम SEO पर ध्यान नहीं देंगे तो हमारे blog या वेबसाइट को search engine कभी भी search रिजल्ट में show नहीं करेगा, और उसे rank नहीं मिलेगी ,क्योंकि गूगल जिन वेबसाइट व blog को rank देता है लोग उसे ही ज्यादा visit करते है इसलिए वेबसाइट व blog के लिए SEO बहुत जरुरी होता है|

SEO कैसे काम करता है? (How does SEO work?)

अगर हम SEO के बारे में जानना चाहते है तो हमें यह मालूम होना चाहिए कि यह काम कैसे करता है तभी आप इसे सही से समझ सकेंगे|

जैसा कि हम जानते है इंटरनेट पर एक विषय से संबंधित लाखों webpage होते है लेकिन जब हम google पर किसी search query को type करते है तो google के सबसे पहले page पर अच्छे रिजल्ट ही show होते है| यह SEO के कारण होता है क्योंकि search engine का काम ही होता है कि वह लाखों करोड़ो webpages में से सबसे अच्छे webpage को पहले number पर show करे और यह search engine विभिन्न algorithms का use करके करता है जैसे –

  • Crawling : इस प्रकिया के द्वारा लाखों करोड़ो webpages को स्कैन करके हर webpage की जानकारी को प्राप्त किया जाता है|
  • Ranking and Indexing : इसके बाद webpages को ranking देकर उनकी indexing की जाती है|
  • Search query and Search result : जब internet user किसी भी search engine में कोई भी query डालकर search करता है तो search engine के सॉफ्टवेर कुछ ही सेकेंड में पहले index किए हुए webpages में से सबसे relevant webpages को show कर देता है|

तो दोस्तों अगर आप भी website या blog के माध्यम से ऑनलाइन पैसा कमाने की सोच रहे है तो इससे पहले SEO के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर ले| तभी आप अपने blog या वेबसाइट पर traffic बढ़ा सकते है ,नहीं तो आपकी मेहनत का आपको कोई result नहीं मिलेगा और केवल असफलता ही हाथ आयेगी|

Important Tips  – अगर आप वेबसाइट बनाना चाहते है तो वेबसाइट का नाम और होस्टिंग (Web Hosting) को BuyDomainHosting.net से Prices और Features जरूर Compare करे। बहुत अच्छी सर्विस देते है। कोई फ़ालतू के छुपे हुए चार्ज नहीं। जो पहले साल Pay करोगे वही अगली साल से Renewal लेते है। बाकि अन्य कम्पनियाँ पहले साल तो अच्छा डिस्काउंट देकर, हमेशा के लिए फसा लेते है, कही भी लेने से पहले रिन्यूअल चार्जेज और Other चार्जेज के बारे में जरूर पूछे। आप चाहे तो डायरेक्टली WordPress से भी खरीद सकते है।

You can read – इन 4 वेबसाइट से घर बैठे कमाइए 50 हजार रु महीने तक

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 1

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?