जानिये हाथ धोने की जरुरी विधि, महत्व या चरण / नियम – Hand Washing

हाथ धोना हर परिवार की सबसे अच्छी आदत होती है और ये बहुत सी बीमारियों से भी बचाता है क्युकी ज्यादातर बैक्टीरिया या रोगाणु हाथो के द्वारा ही आपके शरीर में जाते है। चलिये जानते है। Hath Dhone ke Steps in Hindi

1
35
5
(1)

हाथ की स्वच्छता क्यों करें?  (Hath Kyu Dhona chahiye?)

हाथ की स्वच्छता, स्वच्छता के लिए एक सरल आदत है। फिर भी जब यह ठीक से किया जाता है तो हाथ स्वच्छता संक्रमण को रोकने का सबसे अच्छा तरीका है। पूरे दिन आप विभिन्न स्रोतों से अपने हाथों पर रोगाणुओं को जमा करते हैं, जैसे लोगों और जानवरों, या दूषित सतहों के साथ सीधे संपर्क से। यदि आप हाथ से स्वच्छता ठीक से नहीं करते हैं, तो आप अपनी आंखों, नाक या मुंह को छूकर इन रोगाणुओं से खुद को संक्रमित कर सकते हैं| आप दूसरों के साथ संपर्क करके या अन्य सतहों को छूने के माध्यम से इन रोगाणुओं को भी फैला सकते हैं।

हाथ की स्वच्छता किसको करनी चाहिए? (Hath Dhone ki Jarurat)

हाथ की स्वच्छता हर किसी के दैनिक दिनचर्या का हिस्सा होना चाहिए। आपको हमेशा अपने परिवार के सदस्यों या हाथों की स्वच्छता करने के लिए आसपास के लोगों को भी याद दिलाना चाहिए।

हाथ स्वच्छ कब- कब करें? ( Hath Kab Dhona Chahiye)

यद्यपि अपने नंगे हाथों को जीवाणु मुक्त रखना संभव नहीं है, ऐसे समय होते हैं जब संख्याओं और जीवाणुओं के फैलाव को सीमित करने के लिए अपने हाथों को साफ करना महत्वपूर्ण होता है।

हमेशा निम्नलिखित स्थितियों में अपने हाथों को साफ करना याद रखें:

व्यक्तिगत स्वच्छता (हाथ धोने की जरुरी नियम – Hath Dhone ke Steps):

  1. आंखों, नाक को छूने से पहले
  2. खाना खाने से पहले
  3. शौचालयों का उपयोग करने के बाद
  4. खांसी या छींकने के बाद

दूषित या गंदे पदार्थों से संपर्क करने या संभालने के बाद:

1 . डायपर बदलने के बाद या बच्चों या बीमारों से गंदे सामग्री संपर्क करने या संभालने के बाद

  1. जानवरों, मुर्गी या उन के मल को छूने के बाद
  2. कचरे के रख-रखाव के बाद
  3. सार्वजनिक प्रतिष्ठानों या उपकरणों को छूने के बाद, जैसे एस्केलेटर हैंड्रिल, लिफ्ट नियंत्रण पैनल या दरवाजा घुंडी

अन्य:

  1. अस्पतालों, आवासीय देखभाल घरों या बीमारों की देखभाल करने से पहले और बाद में
  2. जब भी आप अपने हाथ गंदे पाते हैं

हाथो को अच्छे से कैसे साफ़ करे? (हाथ धोने की जरुरी विधि – Hath Dhone ke Tarike)

हाथों को स्पष्ट रूप से गंदे या रक्त या शरीर के तरल्न पदार्थ से दषित होने पर आपको एंटीसेप्टिक साबुन या लिक्विड के साथ हाथ साफ करना चाहिए ।

हाथ स्वच्छता के लिए कदम (हाथ धोने की जरुरी चरण – Hand Washing steps) –

।. चलने वाले पानी के नीचे हाथों को गीला करें.

  1. साबुन लगा लें और हाथों को एक साथ रगड़ कर धोये।.
  2. कृपया हथेलियों, हाथों के पीछे, उंगलियों के बीच, उंगलियों के पीछे, अंगूठे, उंगली की नोक और कलाई को रगड़ें। कम से कम 20 सेकंड के लिए ऐसा करें.
  3. नल के नीचे कृपया हाथों को अच्छी तरह से साबुन साफ़ करे।
  4. कृपया एक साफ सूती तौलिया, एक पेपर तौलिया, या एक हाथ ड्रायर के साथ अच्छी तरह से अपने हाथों को सूखा लें.
  5. साफ हाथों को सीधे पानी की नल को छूना नहीं चाहिए।

फिर नल कैसे बंद करे? –

* नल को पेपर तौलिया लपेटकर या

* नल को साफ करने के लिए पानी छिड़कने के बाद.

कृपया ध्यान दें:

* कृपया दूसरों के साथ तौलिए कभी शेयर न करें.

* प्रयुक्त कागज, तौलिया का निपटान ठीक से करें.

* व्यक्तिगत तौलिए अच्छी तरह से स्टोर करें और कम से कम एक बार उन्हें धो लें| खासकर, लगातार दुबारा इस्तेमाल के लिए तौलिए तैयार करें.

आप जब भी हाथ धोये इन आदतों को जरूर पालन करे और बच्चो से करवाए। क्युकी ज्यादातर वायरस जैसे की कोरोना वायरस, स्वाइन फ्लू आदि हाथो के माध्यम से ही आपके अंदर जाते है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 1

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.