पूजा-पाठ

क्या आप जानते है? करवाचौथ पर चाँद को छलनी से क्यों देखते है - Karva Chauth 2019

करवाचौथ का त्योहार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। इस बार करवाचौथ 17 अक्टूबर 2019 दिन गुरूवार को पड़ रहा है| करवाचौथ के दिन शादीशुदा महिलाएं पूरे दिन निर्जला व्रत रखती है ,तथा शाम को सोलह श्रृंगार करके ,पूजा और कथा कहकर रात को चाँद को छलनी से देखकर उसे अर्ध्य देकर व्रत खोलती हैं। लेकिन आपने कभी ये जानने कि कोशिश की है कि

जानें, क्यों मनाया जाता है धनतेरस  (Dhanteras)?

जानें, क्यों मनाया जाता है धनतेरस? पुराणों के अनुसार इस दिन समुद्र मंथन के समय, अमृत का कलश लेकर धनवंतरी प्रकट हुए थे. इस कारण इस दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाने लगा और धनवंतरी के प्रकट होने के ठीक दो दिन बाद मां लक्ष्मी प्रकट हुईं थीं. यही कारण है कि हर बार दिवाली से दो दिन पहले ही धनतेरस मनाया जाता है. इस दिन धनवंतरी देव

जानिए हिंदू पूजा से सम्बंधित 45 जरूरी नियम

हिन्दू धर्म में मूर्ति पूजा का विधान है और 33 करोड़ देवी-देवताओं वाले इस धर्म में सभी इष्ट देवों को एक विशिष्ट स्थान प्रदान किया गया है। हिन्दू धर्म परंपरा में घर में मंदिर होना महत्वपूर्ण माना गया है। घर में स्थान के हिसाब से छोटे-बड़े मंदिर बनवाए जाते हैं और बड़ी श्रद्धा के साथ उनमें देवी-देवताओं को स्थापित किया जाता है। माना जाता है इससे नकारात्मक ऊर्जाओं का प्रवेश

भूल से भी शिवलिंग पर ना चड़ाये ये वस्तुए

हिन्दू धर्म में सभी देवी-देवताओं को प्रसन्न करने, उनकी आराधना करने के विशिष्ट तरीकों का वर्णन उपलब्ध हैं। कुछ ऐसी सामग्रियां और विधियां होती हैं जो विशिष्ट अराध्य देव को बहुत पसंद होती हैं, उनकी पूजा में उन सामग्रियों की उपलब्धता मनवांछित फल प्रदान करती है। तथा कुछ चीज़ो का निषेध भी है. जिनका प्रयोग करना उलटा परिणाम प्रदान कर सकता है। जहां कुछ चीजें आराध्य देवी-देवताओं को पसंद आती

tulasi

तुलसी का पौधा– हिन्दू धर्म में तुलसी के पौधे को एक तरह से लक्ष्मी का रूप माना गया है। कहते है की जिस घर में तुलसी की पूजा अर्चना होती है उस घर पर भगवान श्री विष्णु की सदैव कृपा दृष्टि बनी रहती है । आपके घर में यदि किसी भी तरह की निगेटिव एनर्जी मौजूद है तो यह पौधा उसे नष्ट करने की ताकत रखता है। हां, ध्यान रखें

Rawana temple in india

आपके मन में जब मंदिर का ख्याल होता होगा तब आप उसे किसी न किसी देवी या देवता से जरूर जोड़कर देखते होंगे, लेकिन अगर कोई आपसे कहे की ऐसे भी मंदिर है जहा किसी देवी या देवता या भगवान् की नहीं बल्कि अन्य की पूजा होती है तो आप चौक जायेंगे. बिलकुल आज हम हिंदू पौराणिक कथाओं के भगवानो की नहीं बल्कि उनके अलग अलग लोगो के मंदिरो के

सावन के महीने में सोमवार का महत्व

सावन के महीने में सोमवार का महत्त्व हम सब जानते है हमारे देश में मुख्यतः तीन प्रकार के मौसम होते है| और ये सभी मौसम 4-4 महीने के लिए आते है जैसे – गर्मी का मौसम ठण्ड का मौसम बरसात का मौसम वैसे तो अपनी – अपनी जगह सभी मौसम का अपना एक अलग महत्त्व और सौंदर्य होता है लेकिन इन सभी में बरसात के मौसम का अपना एक अलग

क्या है श्रावण (सावन) मास के सोमवार का महत्व, ज़रूर जानिये

हम सब जानते है हमारे देश में मुख्यतः तीन प्रकार के मौसम होते है| और ये सभी मौसम 4-4 महीने के लिए आते है जैसे गर्मी का मौसम ठण्ड का मौसम बरसात का मौसम वैसे तो अपनी – अपनी जगह सभी मौसम का अपना एक अलग महत्त्व और सौंदर्य होता है लेकिन इन सभी में बरसात के मौसम का अपना एक अलग ही महत्त्व व सौन्दर्य है क्योंकि इसके आते