जानिये पवित्र महाकालेश्वर ज्योर्तिलिंग (Mahakaleshwar Jyotirlinga) के बारे में

जानिये पवित्र महाकालेश्वर ज्योर्तिलिंग (Mahakaleshwar Jyotirlinga) के बारे में आज हम आपको भगवान शिव के तीसरे ज्योर्तिलिंग के इतिहास ,महत्त्व और उसके पीछे की पौराणिक कथा के बारे में बतायेंगे| महाकालेश्वर ज्योर्तिलिंग मध्यप्रदेश के उज्जैन शहर में क्षिप्रा नदी के किनारे स्थित है| जिसे महाकालेश्वर या महाकाल मंदिर कहते है| यह सभी 12 ज्योर्तिलिंग में से एक मात्र ऐसा ज्योर्तिलिंग है जो दक्षिणमुखी है| इस ज्योर्तिलिंग के दर्शन करने से

टेलीफोन का आविष्कार किसने किया? Know who invented the telephone?

यह बात तो सभी जानते है कि टेलीफोन के माध्यम से हम कहीं पर भी और किसी से भी बात कर सकते है| लेकिन अपने कभी ये सोचा है कि आखिर ये टेलीफोन कैसे और किसने बनाया होगा| तो आज हम आपको उसी वैज्ञानिक के बारे में बताने जा रहे है जिसने टेलीफोन को बनाया| उस वैज्ञानिक का नाम अलेक्जेंडर ग्राहम बेल है| ग्राहम बेल को वैसे तो टेलीफोन के

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग का इतिहास व महत्व (Mallikarjuna Jyotirlinga)

मल्लिकार्जुन ज्योर्तिलिंग दुसरे नंबर का ज्योर्तिलिंग है| कोटिरुद्र्संहिता में मल्लिकार्जुन का अर्थ (मल्लिका का मतलब पार्वती तथा अर्जुन का मतलब शिव) पार्वती-शिव बताया गया है| कहा जाता है कि इस ज्योर्तिलिंग के दर्शन करने वालों के सभी कष्ट दूर हो जाते है और उन्हें अश्वमेध यज्ञ का पूण्य मिलता है| इस ज्योर्तिलिंग की पूजा-अर्चना करने वाले लोगों को शिव के साथ-साथ माँ पार्वती का भी आशीर्वाद मिलता है| मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग कहां

जाने पहले ज्योतिर्लिंग श्री सोमनाथ मंदिर के बारे में (Know About Somnath Temple, India)

जाने पहले ज्योतिर्लिंग श्री सोमनाथ मंदिर के बारे में (Know About Somnath Temple, India) जैसा कि हम जानते है भगवान भोलेनाथ के 12 ज्योतिर्लिंग है| जो कि देश के अलग-अलग भागों पर पाये जाते है| इनमे से जो पहला ज्योतिर्लिंग है उसका नाम सोमनाथ ज्योतिर्लिंग है| आज हम आपको सोमनाथ मंदिर में स्थित इसी ज्योतिर्लिंग का इतिहास बताने जा रहे है| इसके इतिहास के साथ हम आपको ये भी बतायेंगे

Who did the invention of television and when, who invented the telephone, who invented the radio, the meaning of television, the invention and inventor's name

Question : Who did the invention of television and when? Answer : The name of the scientist invented the television, that is, John Logie Baird or J.L. Baird was, he made a new thing on October 2, 1925, in his machine to convert light into electric rays and turned on his device, and he saw that the whole picture emerged. And he became the inventor of television. टेलीविजन यानि TV का आविष्कार

जाने भारत की पहली रेलगाड़ी महिला चालक : सुरेखा यादव

Know India’s first train female driver: Surekha Yadav आज हम जिस महिला के बारे में आपको बताने जा रहे है ,उस महिला का नाम सुरेखा यादव है| यह भारत की पहली रेलगाड़ी चालक महिला है| जिन्होंने रेलगाड़ी को चलाकर यह बता दिया कि एक महिला चाहे तो कुछ भी कर सकती है| केवल उसके अन्दर उस काम को करने की मजबूत इच्छाशक्ति होनी चाहिए| Know About India’s first female Train

जाने भारत की पहली महिला पायलट : सरला ठकराल

आज हम आपको भारत की पहली महिला पायलट के बारे में बताने जा रहे है| जिसने पहली बार विमान उड़ाकर लोगों को ये बता दिया कि महिलाये केवल घर ही नहीं चला सकती ,बल्कि चाहे तो एक विमान भी चला सकती है| यह कारनामा जिस महिला ने पहली बार कर के दिखाया ,उस महिला का नाम सरला ठकराल है| इन्होने मात्र 21 साल की आयु में 2 सीटों वाले जिप्सी

फोटो साभार- गूगल डूडल

आज हम जिस महिला के बारे में बताने जा रहे है उनका नाम आनंदीबाई जोशी है| यह उस महिला का नाम है जिसने पहली बार डॉक्टर की डिग्री प्राप्त करके अपना नाम इतिहास में अमर कर लिया है| आनंदीबाई ने यह गौरव जब हासिल किया तब महिलाये घर से बाहर नहीं निकलती थी ,और न ही उन्हें शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार था| उस समय भारत अंग्रेजों का गुलाम था

जाने भारत की पहली महिला शिक्षक : सावित्रीबाई फुले

शिक्षक का हमारे जीवन में क्या स्थान होता है ये बात तो हम जानते ही है| लेकिन कभी आपने ये सोचा है कि आखिर वो पहली महिला कौन होगी ,जिसने पहली बार किसी को पढ़ाया होगा| तो उस महिला शिक्षिका का नाम सावित्रीबाई फुले है| सावित्रीबाई फुले का जन्म 3 जनवरी 1831 को महाराष्ट्र के सतारा जिले के नायगांव नामक गांव में एक दलित परिवार में हुआ था| उनके पिता

जानें, क्यों मनाया जाता है धनतेरस  (Dhanteras)?

जानें, क्यों मनाया जाता है धनतेरस? पुराणों के अनुसार इस दिन समुद्र मंथन के समय, अमृत का कलश लेकर धनवंतरी प्रकट हुए थे. इस कारण इस दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाने लगा और धनवंतरी के प्रकट होने के ठीक दो दिन बाद मां लक्ष्मी प्रकट हुईं थीं. यही कारण है कि हर बार दिवाली से दो दिन पहले ही धनतेरस मनाया जाता है. इस दिन धनवंतरी देव