क्या आपको लगता है आप पर किसी ने काला जादू किया है ? तो घबराइए नहीं बल्कि आज से आपको कभी भी काला जादू से डरने की जरुरत नहीं है। सबसे पहले हम इन बातो को छोटे छोटे प्रश्न उत्तर के माध्यम से से समझेंगे ताकि एक एक टॉपिक या शंशय ख़त्म होता चले।

काला जादू क्या होता है ?

देखिये अगर संसार में सफ़ेद जादू यानि सकारात्मक ऊर्जा या प्रकाश है तो इस संसार में काला जादू या नकारात्मक ऊर्जा या अँधेरा भी है। इस ब्रह्माण्ड में सिर्फ ३ चीज़े ध्यान देंगे योग्य है।

  1. पहला – प्रकाश या सकारात्मक ऊर्जा
  2. दूसरा – अँधेरा या नकारात्मक ऊर्जा
  3. तीसरा – गति या समय या काल चक्र या कर्म

आपको लगेगा हा बिलकुल सही है क्युकी सूर्य प्रकाश देता है जो सकरात्मक ऊर्जा है और जहाँ सूर्य की रौशनी छुप जाती है जैसे ग्रहो के पीछे वहां नकारात्मक ऊर्जा है यानि अँधेरा।
सूर्य और सभी गृह अपनी गति पर निरंतर रहते है तो गति भी है,

पर ध्यान रहे ऐसा कोई नहीं है जिसे न भूतकाल में और न वर्तमान काल में सम्पूर्ण ज्ञान हो। ऊपर बताई हुयी बातें सत्य तो है पर अधूरी है।
अब में कहूंगा की ऊपर ३ चीज़े नहीं बल्कि एक ही है जो की सिर्फ एक ऊर्जा है। सकारात्मक ऊर्जा भी एक ऊर्जा का रूप है , नकारात्मक ऊर्जा भी ऊर्जा का रूप है और गति भी एक ऊर्जा ही है।
तो इस ब्रह्माण्ड में एक चीज़ कॉमन हुयी वो है ऊर्जा। अब मनुष्य किस ऊर्जा का कैसे प्रयोग करता है ये उसके विवेक पर निर्भर है। जैसे – बिजली ऊर्जा का सबसे अच्छा उदहारण है अगर आप उसका सही इस्तेमाल कर रहे है तो सकारात्मक ऊर्जा बोल सकते हो और वही बिजली इंसान के मर्त्यु का कारण बने तो नकारात्मक ऊर्जा कह सकते हो .

आप अगर पंखे को एक उचित मात्रा और फिक्स्ड मात्रा में ऊर्जा दोगे तो वह अपनी फिक्स्ड गति से घूमेगा। इसी तरह से ब्रह्माण्ड की फिक्स्ड ऊर्जा सूर्य पर इतना दवाब डालतीं है की वो चमकने लगता है न वो ऊर्जा कम ज्यादा हो रही है और न सूर्य का चमकना बंद हो रहा है। उसी तरह से एक बल्व, ऊर्जा से जलकर भी अपने चारो तरह ऊर्जा बिखेरता है।

चलो ये तो रहा ऊर्जा का समझाना अब मुद्दे पर आते है क्या वास्तव में काला जादू जैसी कोई चीज़ होती है।

यहाँ में कहूंगा होती भी है और नहीं भी. ये बिलकुल वैसे ही है की कोई पूछे क्या बिजली इंसानो के लिए घातक है तो कहना पड़ेगा, घातक भी है और नहीं भी , क्युकी बिना बिजली के कुछ भी नहीं.

लेकिन एक चीज़ हमेसा इस सन्दर्भ में याद रखना की ऊर्जा का गलत इस्तेमाल किया जा सकता है , ऊर्जा का गलत इस्तेमाल को हम काला जादू बोलते है और सही इस्तेमाल को सेवा या चमत्कार ।

क्या तांत्रिक और पंडित समान है ?

  • बिलकुल नहीं , तांत्रिक अंधकार को पूजता है और पंडित प्रकाश को
  • तांत्रिक द्वारा की गयी पूजा से नकारात्मक ऊर्जा निकलती है जिसे वो वश में करके गलत काम करता है।
  • पंडित के द्वारा पूजा से सकारात्मक ऊर्जा निकलती है जो स्वयं को शक्ति देती है और प्रकति को भी शक्ति प्रदान करती है, और ये खुद व् खुद आपके साथ तब तक रहते है जब तक आप दुसरो की सेवा करते रहते हो।
  • आप इस सकारात्मक ऊर्जा को ट्रांसफर भी कर सकते हो, आशीर्वाद या दुआ के रूप में। भौतिकी विज्ञान के अनुसार “ऊर्जा को ट्रांसफर किया जा सकता है लेकिन नष्ट नहीं किया सकता। “.

आपने सुना होगा की जिस व्यक्ति ने किसी पर काला जादू किया था बाद में वह खुद काला जादू से ग्रसित हो जाता है। ये एक दम सत्य है। क्युकी सामने वाला व्यक्ति जितना कमजोर होगा मतलब सकारात्मक ऊर्जा की कमी होगी , अंधकार में होगा तो अंधकार हमेशा अंधकार में समा जाता है, उसे बर्बाद कर देता है। और इंसान की बर्बादी केवल और केवल दिमाग को असंतुलित करके ही किया जा सकता है. लोगो को लगता है काला जादू भूत है,  नहीं ये आपके दिमाग बैठा हुयी गन्दी सोच या नकारात्मक ऊर्जा है जो आपको सिर्फ और सिर्फ गलत निर्णय लेने पर मजबूर करती है और आपसे कहती है की अपने जो किया वही सही है , बाकि सब गलत है।

पर अगर वही व्यक्ति सकारात्मक ऊर्जा से भरा हुआ है तो काला जादू उसका कुछ नहीं बिगाड़ पता या थोड़ा बहुत नुक्सान करके वापस ,अर्थात जिसने नकारात्मक ऊर्जा पैदा की है उसी में समा जाती है और फिर उसके दिमाग के साथ खेलती है।

आपको कैसे पता चलेगा की आप काला जादू के शिकार है?

देखिये अगर आपका झुकाव अध्यात्म की तरफ है तो ये चीज़े आपको कभी नुक्सान नहीं पंहुचा सकती क्युकी आप पहले से ही रौशनी के संपर्क हो या रौशनी में खड़े हो अँधेरा आपका क्या बिगाड़ सकता है।
फिर भी में आपको कुछ वास्तव में घटित होने वाले लक्षणों को बता रहा हु जरा अपने आप में झांक कर देखना की आप पर काला जादू है या नहीं.
मानसिक असंतुलन
शरीर में भारीपन या बिना काम के थकावट का होना।
औसत से तेज चलना।
शरीर में खिचाव
घर में बात बात पर कलह
व्यवसाय में नुकसान
काम में मन न लगना.
चिंता दूर करने के लिए नशा करना।
पर्याप्त निद्रा का न मिलना
काला जादू या नकारात्मक ऊर्जा हमेशा इंसान के दिमाग पर असर डालती है, आपको वहम होता है की आप अकेले नहीं है कोई है जो आपको हमेशा देख रहा है.

जब भी इस तरह के लक्षण दिखाई दे तो समझ लेना आप काला जादू वश में है मतलब आप प्रकाश से दूर चले गए हो। अंधकार में हाथ पैर पटक रहे हो। आपके साथ बहुत गलत हो रहा है फिर भी कोई आपकी मदद नहीं कर पा रहा है. क्या ऐसा हो रहा है आपके साथ ?

आखिर काला जादू से बाहर कैसे निकले? कैसे बचाये खुद को?

ये तो आपको पता चल गया की आप अंधकार में है चाहे वो अंधकार आपकी मानसिक तरंगो में समां गया हो या ज़िंदगी में। तो अब आप क्या करेंगे? मेने मान लिया की आप इन चीज़ो पर विश्वास नही करते ये अंध विस्वास है, पर में तो रौशनी और अंधकार की बात कर रहा हु।
आप अंधकार में किताब पढ़ने की कोशिश कर रहे है और में कह रहा हु रोशिनी में आकर पढ़ो। बस इतनी सी बात है करके तो देखो।

शुरुआत कैसे करे ?

घर में शाम को घी का दिया जलाये उससे उत्पन्न सकारात्मक ऊर्जा आपकी मानसिक और शारीरिक नकरात्मक ऊर्जा को ख़त्म करेगा.
आप सच्चे मन से रुद्राक्ष धारण करे जो हर तरह की नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट कर देता है.
जरूरतमंद की मदद करे या दान करे , जैसे भी आपकी हैसियत हो।
जो चीज़ आपके पक्ष में नहीं है उसे विवाद के द्वारा अपने पक्ष में लाने की कोशिश न करे। क्युकी आपके द्वारा किया गया विवाद आपके अंदर की नकारात्मक शक्ति को बल देगा जो आपके देवत्व को ख़त्म कर राक्षस बना कर , आपको की ख़त्म कर देगा। आप यश , धन और सम्मान भी खो सकते है।
ॐ उच्चारण के साथ सुबह सुबह योग करे या फिर कम से कम टहलने जाए। प्रकृति में उपलब्ध ज्यादा से ज्यादा सकारात्मक ऊर्जा को ग्रहण करे.
प्रकृति से ज्यादा से ज्यादा सकारात्मक ऊर्जा ले और उतना ही उसको समाज में बाँट दे, अच्छी सोच और कार्यो के द्वारा बाँट दे।
जैसे ही आप सकारात्मक ऊर्जा के निकट आएंगे, कोशिश करे की सारे कार्य समयानुसार करे। न जरुरत से ज्यादा काम और न काम ख़त्म किये बिना आराम। क्युकी ऊर्जा को अपने पास रखने के लिए आपमें उचित (फिक्स्ड ) गति का होना परम आवश्यक है।
फुर्सत या आराम के समय, आप अपने बच्चो एवं परिवार में आध्यात्म से सम्बंधित कहानी, किस्सों को सुने और सुनाये वो भी मुस्कराते हुए। तो आपका घर भी सकारात्मक ऊर्जा से भरा हुआ लगेगा। और उस कवच को कोई भी काला जादू नहीं तोड़ सकता।

फिर आप देखिये अपना यश, धन और सम्मान कैसे आगे बढ़ता है , आपको फिर ये कभी नहीं लगेगा की आप पर काला जादू हुआ है बल्कि आपको लगेगा की आपके साथ तो चमत्कार हो रहे है, शिव जी को धन्यवाद दे जिससे सकारात्मक ऊर्जा का आदान प्रदान होगा। ॐ नमः शिवाय !

kala jadu karna sikhna, kala jadu hindi, kala jadu sikhe, kala jadu vashikaran,

 

लेखन सामग्री को बिना क्रेडिट दिए कॉपी करना – चोरी करने के बराबर है। दुसरो की मेहनत और समय का ध्यान रखे ।