Know Amazing Benefits of Giloy The Ayurvedic Root of Immortality

(आयुर्वेद में गिलोय का इस्तेमाल है बेहद कारगर जाने इसके गुण, अवगुण )

गिलोय वैसे तो एक साधारण सी लता होती है लेकिन इसके अन्दर बहुत सारे औषधिय गुण होते है| जिसकी जानकारी हमें नहीं होती है| तो आज हम आपको इस लेख के माध्यम से गिलोय के इन्ही गुणों के बारे में बताने जा रहे है| लेकिन इससे पहले इसके बारे में कुछ महत्वपूर्ण बाते जान लेते है|

गिलोय एक बहुत ही गुणकारी औषधि है जो लता के रूप में पायी जाती है| इसके पत्ते रंग में हरे व आकार में पान के पत्ते के समान होते है| गिलोय को जंगल ,खेतों की मेड ,पहाड़ो पर आसानी से देखा जा सकता है| इसमें फूल गर्मी के मौसम में गुच्छों में आते है| इसके फूल का रंग पीला होता है| इन फूलों से मटर के दाने के समान लाल रंग के फल निकलते है| इसके बीज मिर्ची के दाने के समान सफेद रंग के होते है|

गिलोय के विभिन्न नाम (Various names of Giloy) –

अमृता ,छिन्नरुहा ,चक्रांगी ,गुडूची ,टीनोस्पोरा कार्डीफोलिया (Amrita, Chunniruha, Chakrangi, Guduchi, Teenospora Cardifolia) आदि|

गिलोय में पाये जाने वाले तत्व (Elements found in Giloy) –

कैल्शियम ,फास्फोरस ,स्टार्च ,प्रोटीन के अलावा इसमें एंटीबायोटिक व एंटीवायरल तत्व भी पाए जाते है|

giloy, giloy ke fayde aur nuksan in hindi, giloy ke fayde in hindi, how to use giloy

giloy powder benefits in hindi, giloy side effects, giloy ka fal, giloy plant

सर्वोत्तम गिलोय की पहचान  (Best Recognition of Giloy) –

जिस गिलोय की लताएं नीम को आधार मानकर उस पर चढ़ती है| वह औषधिय रूप से सबसे अच्छी गिलोय होती है क्योंकि गिलोय की लताएं जिस पर भी चढ़ती है वह उसके गुणों को अपने अंदर समाहित कर लेती है| और आप लोग तो जानते ही है कि नीम कितना गुणकारी होता है इसलिए नीम पर चढ़ी गिलोय भी बहुत उत्तम है|

गिलोय के औषधिय गुण (Medicinal properties of Giloy) –

  • अगर आपको किसी भी प्रकार का बुखार बार-बार आ रहा हो तो गिलोय के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर पिये तो बुखार ठीक हो जायेगा|
  • गिलोय के चूर्ण का सुबह-शाम शहद के साथ सेवन करने से मोटाप दूर हो जाता है तथा पेट की चर्बी भी घटती है|
  • गिलोय के चूर्ण का सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है तथा खून की कमी भी दूर होती है|
  • गिलोय के एक चम्मच रस को एक गिलास छाछ के साथ मिलाकर सुबह-शाम पीने से पीलिया की बीमारी में राहत मिलती है|
  • गिलोय के पत्तों को हल्दी के साथ पीसकर खुजली वाली जगह पर लगाने से खुजली ठीक हो जाती है|
  • गिलोय का सेवन आँखों के लिए भी बहुत फायदेमंद है| अगर गिलोय के रस को आंवले के रस के साथ मिलाकर पिये तो आँखों की रोशनी बढ़ती है|
  • अगर कान में दर्द हो तो गिलोय के रस को थोड़ा सा गुनगुना करके डाले तो कान दर्द ठीक हो जायेगा|
  • गर्मी के कारण उल्टियां हो तो गिलोय के रस को शहद के साथ लेने से उल्टियां बंद हो जायेंगी|
  • कैंसर व टीवी जैसी बीमारियों को दूर करने के लिए भी गिलोय का सेवन बहुत फायदेमंद होता है|
  • खांसी आने पर गिलोय के चूर्ण को शहद के साथ चाट ले तो खांसी बंद हो जाएगी|
  • हाथ-पैर में जलन होने पर गिलोय के रस में नीम व आंवले को मिलाकर उसका काढ़ा बनाकर पीने से जलन में आराम मिलता है|

तो आप लोगों ने देखा कि गिलोय से कितनी सारी बीमारियों को दूर किया जा सकता है| लेकिन केवल इस बात का ध्यान रखना पड़ता है कि हम इस औषधि का उचित मात्रा में ही प्रयोग करे ताकि इसका सेवन करने से हमें किसी भी प्रकार की  हानि न हो| अगर आप किसी प्रकार की बीमारी से ग्रस्त है और उसका इलाज ले रहे है तो डॉक्टर की सलाह के बिना गिलोय जडीबुटी का सेवन न करे|