ध्यान रहे शाम के बाद इन चीजों को न छूएं, लक्ष्मी होती है घर से दूर

हमारे शास्त्रों में मानव जीवन के नित्य कर्मो को कैसे निभाए तथा क्या सावधानी रखे ये साफ साफ बताया गया, हम किन चीज़ो से अपने भाग्य को जगा सकते है …

महाशिवरात्रि की पवित्र, प्राचीन महिमा और प्रामणिक कथा

पुराण में चार प्रकार के शिवरात्रि पूजन का वर्णन है। मासिक शिवरात्रि, प्रथम आदि शिवरात्रि, तथा महाशिवरात्रि। पुराण वर्णित अंतिम शिवरात्रि है-नित्य शिवरात्रि। वस्तुत: प्रत्येक रात्रि ही ‘शिवरात्रि’ है अगर …

महादेव शिव जी के अर्द्धनारीश्वर अवतार की कथा – Shiv Ji Ardhnarishwar Story in Hindi

आपने अपने घर या जहा कही भी शिव जी और पारवती माँ की फोटो को एक साथ जुड़े हुए (अर्धनारेश्वर रूप ) देखा है तो जरूर सोचा होगा की इसके …

जानिए शिवमहापुराण की महिमा आसान शब्दो में

शिव महापुराण एक ऐसा महान प्राचीन पुराण है जिसके सुनने और सुनाने से मनुष्य जन्मो के पापो से मुक्त हो जाता है, यह शिवपुराण ग्रन्थ चौबीस हजार श्लोको से युक्त …

क्यों निर्वस्त्र स्नान नहीं करना चाहिए, श्रीकृष्ण ने बताया था

हिन्दू धर्म ग्रंथों में बहुत सी उपयोगी बातों का जिक्र किया गया है, उन्हीं में से कुछ खास बातें हम आपको बताने जा रहे हैं। हम में से अधिकांश व्यक्ति …

नक्षत्र कितने होते है और उनका चन्द्रमा के घटने और बढने से क्या सम्बन्ध है?

कहते है हिन्दू धर्म में, एक धर्म से बढ़कर मनुष्य के जीने की कला निहित है. हिन्दू धर्म में प्रकृति को ही सब कुछ माना गया है. नीचे आपको पता लगेगा …

कुंडली में राक्षस गण क्यों विशेष होता है अन्य गणों से?

इस दुनिया में बहुत इस ऐसी चीज़े है जिनकी बारे में मानव हर संभव प्रयास करने की कोशिश करता रहता है पर फिर भी बहुत सी ऐसी बातें है जिन्हें …

Uttarayan and Dakshinayan

क्या है उत्तरायण और दक्षिणायन | Uttarayan and Dakshinayan

हिंदु पंचांग के अनुसार एक वर्ष में दो अयन होते हैं. अर्थात एक साल में दो बार सूर्य की स्थिति में परिवर्तन होता है और यही परिवर्तन या अयन ‘उत्तरायण …