जानिए इलायची के औषधीय गुण और इलायची के नुकसान

भारत मे इलायची का प्रयोग प्राचीन काल से चला आ रहा है, चाहे वो पूजा-पाठ हो, मसालो मे हो, स्वीट्स मे हो, या औषद्धि के रूप मे हो. इलायची की खुशबू ही आपके मन और दिमाग़ को तरो-ताज़ा कर देती है. वैसे इलायची दो प्रकार की होती है, एक बड़ी इलायची और दूसरी छोटी इलायची. बड़ी इलायची का प्रयोग ज़्यादातर मसालो मे किया जाता है और छोटी इलायची का प्रयोग ज़्यादातर स्वीट्स या व्यजनो मे खुश्बू के लिए किया जाता है. दोनो ही प्रकार की इलायची हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक है

Advertisements

संस्कृत मे इलायची को एला कहा जाता है. भारत में इलायची का उपयोग अतिथि सत्कार, मुखशुद्धि तथा पकवानों को सुगंधित करने के लिए होता है। छोटी इलायची भारत से लेकर मलेशिया तक उगाई जाती है। बड़ी इलायची जिसे एशिया और ऑस्ट्रेलिया में उगाई जाती है।

इलायची (Cardamom Health Benefits) का औषधीय गुण :
आयुर्वेदिक के अनुसार इलाचयी शीतल, तीक्ष्ण, मुख को शुद्ध करनेवाली, पित्तजनक तथा वात, श्वास, खाँसी, बवासीर, क्षय, वस्तिरोग, सुजाक, पथरी, खुजली, मूत्रकृच्छ तथा हृदयरोग में लाभदायक है। ये पाचनवर्धक तथा रुचिवर्धक होते हैं। चलिए तो फिर जानते है आपकी इलायची के स्वास्थ्यवर्धक गुण ;

इलायची (Cardamom) में पाए जाने वाले पोषक तत्व : आयरन, विटामिन c, नियासिन, रिबोफ्लेविन, पोटेशियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम

खराश (Helpful in Throat) : यदि आवाज बैठी हुई है या गले में खराश है, तो सुबह उठते समय और रात को सोते समय छोटी इलायची चबा-चबाकर खाएँ तथा गुनगुना पानी पीएँ।
सूजन (Relief in swelling): यदि गले में सूजन आ गई हो, तो मूली के पानी में छोटी इलायची पीसकर सेवन करने से लाभ होता है।
खाँसी (Cough relief) : सर्दी-खाँसी और छींक होने पर एक छोटी इलायची, एक टुकड़ा अदरक, लौंग तथा पाँच तुलसी के पत्ते एक साथ पान में रखकर खाएँ। वैसे आप बाजार मे मिलने वाला पॅयन भी खा सकते है. बस इलायची डलवाना ना भूले, ये ख़ासी की उत्तम आयुर्वेदिक रोकथाम है.
उल्टी (Helpful in Vomiting): बड़ी इलायची पाँच ग्राम लेकर आधा लीटर पानी में उबाल लें। जब पानी एक-चौथाई रह जाए, तो उतार लें। यह पानी पीने से उल्टियाँ बंद हो जाती हैं।
छाले (Blisters): मुँह में छाले हो जाने पर बड़ी इलायची को महीन पीसकर उसमें पिसी हुई मिश्री मिलाकर जबान पर रखें। तुरंत लाभ होगा।
बदहजमी (Help in Indigestion) : यदि केले अधिक मात्रा में खा लिए हों, तो तत्काल एक इलायची खा लें। केले पच जाएँगे और आपको हल्कापन महसूस होगा।
जी मिचलाना (Nausea): बहुतों को यात्रा के दौरान बस में बैठने पर चक्कर आते हैं या जी घबराता है। इससे निजात पाने के लिए एक छोटी इलायची मुँह में रख लें।
हिचकी रोके (Stop hiccups) : अगर आपकी हिचकी रुक नही रही है तो इलायची आप ज़रूर ले ये तुरंत असर करती है,
शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ को दूर करने में (Remove toxic substances in the body) : जिस प्रकार से शरीर को बाहरी सफाई की जरूरत होती है उसी तरह शरीर को अंदर से डिटॉक्सीफाई (detoxify) करना भी जरूरी है। इलायची में वो सारे गुण होते हैं जो शरीर को detoxify कर सके। इसके सेवन से शरीर में मौजूद सभी विषैले व व्यर्थ पदार्थ किडनी से बाहर निकल जाते हैं।
सांस की बदबू (Breath)- अगर आपके मुंह से बदबू आती है, तो हर भोजन के बाद इलायची का सेवन जरुर करें।
ब्लॉड़ प्रेशर की समस्या के लिए (Keep Blood pressure away): अगर आपका ब्लडप्रेशर की समस्या है तो आप इलायची का उपयोग करना शुरू कर दे, देखना कुछ ही समय मे आपको आराम महसूस होगा.
उज्ज्वल त्वचा के लिए (Get fair skin) : वैसे आप इलायची के नियमित सेवन से अपनी त्वचा को भी निखार सकते है.
स्मरण शक्ति बढ़ाए (Increase Memory Power) : इलायची के बीज, बादाम और पिस्ता के साथ भिगोकर महीन पीस लें। इसे दूध में पकाएँ जब गाढ़ा हो जाए तो 3 पाव मिश्री मिलाकर धीमी आँच में पकने दें। जब हलवा जैसा हो जाए तो सेवन करें। इससे आँखों की कमजोरी दूर होती है। स्मरण शक्ति बढ़ती है।
तनाव मुक्त रखे (Keep Stress away) : बहुत ज्यादा तनावग्रस्त होने पर इलायची वाली चाय या इलायची के सेवन से तनाव की समस्या से निजात मिलता है।
एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर (Lots of Antioxidants) : इलाइची में विटामिन और जरूरी तेल मौजूद होते हैं जो एंटीऑक्सीडेंट का काम करते हैं। इसके सेवन से चेहरे पर बढ़ती उम्र का असर कम दिखता है। इसके अलावा यह चेहरे से फ्री रेडिक्लस को हटाने में भी मददगार है।
सेक्स लाइफ को बढ़ाती है इलायची (Increase Sex Power) : दूध में इलायची डालकर उबालें। खूब अच्छे से उबल जाए तो इसमे शहद मिलाएं और नियमित रूप से रात को सोते समय इसे पी लें। आप देखेंगे कि आपकी सेक्स लाइफ में आनंद के साथ दीर्घता भी शामिल हो गई है।

इलायची (Cardamom) के नुकसान :
आपको लगातार इलायची खाना या ज्यादा मात्रा में इलायची खाने से शरीर में रिएक्शन होने लगता है| और फिर किसी भी तरह की एलर्जी होने लगती है, जिससे शरीर में खुजली, स्किन रेश, लाल धब्बे आ जाते है, सीने व गले में खिंचाव व दर्द, सांस लेने में परेशानी, जी मचलाना आदि. बस इसकी आदत ना बनायें, एक सिमित मात्रा में ग्रहण करें|

कही सुनी बाते :
यदि प्रेमी या पति का व्यवहार ऐसा हो चला हो, जिसे देख आपको लगता हो कि उनके अंदर आपके लिए प्यार न रहा हो तो किसी शुक्रवार को भगवान कृष्ण को याद करते हुए तीन इलायची अपने शरीर से स्पर्श कराकर अपने पास रख लें। अब शनिवार सुबह इसी इलायची को पीसकर खाने में या चाय में मिलाकर उन्हें पिला दें, ऐसा तीन हफ्ता हर शुक्रवार को करें तो आपको उनके व्यवहार में फर्क नजर आने लगेगा। इलायची के बारे मे कही सुनी बाते, जिन्हे इलायची के (इलायची वशीकरण) टोटके भी कहा जाता है, ये सिर्फ़ कही, सुनी बाते है, जिनकी सत्यता की पुष्टि हम नही करते, सिर्फ़ एक मनोरंजन के रूप मे बता रहे है. हमारा उदेश्य किसी भी तरह के अंधविश्वास को वाड़वा देना नही है.
आप अपने विचार हमे ज़रूर बताए कोमेंट के ज़रिए

Sponsored