Aadhaar वेरिफिकेशन से जुड़ी आपके काम की 5 बातें, जरूर जाने

Aadhaar वेरिफिकेशन से जुड़ी इन काम की 5 बातों को जानना बेहद जरूरी है. ऐसा कर आप अपने कार्ड को सुरक्षित कर लेते हैं. आधार के साथ अपने मोबाइल और ईमेल का वेरिफिकेशन करना जरूरी है. अगर आपने अभी तक ऐसा नहीं किया है तो जल्द से जल्द कर लें, ताकि आपको किसी तरह की कोई दिक्कत न हो. आपको बता दें UIDAI के मुताबिक, हाल में आधार को लेकर कई बड़े सवालों में वेरिफिकेशन का सवाल भी था. इसीलिए आज हम आपको इसकी जानकारी दे रहे हैं.

(1) आधार नंबर वेरिफिकेशन- यह सेवा आधार कार्ड धारकों और सेवा प्रदाताओं को यह जानने हेतु सक्षम करेगी कि आधार एक वैध संख्या है और निष्क्रिय नहीं है.

(2) ई-मेल/मोबाइल नंबर वेरिफिकेशन-आधार नंबर धारक का पंजीकृत मोबाइल नंबर आधार ऑनलाइन सेवाओं और आधार संबंधित फायदों के लिए आवश्यक है. निवासी पहले से पंजीकृत किया गया अपना मोबाइल नंबर और ई-मेल पता सत्‍यापित कर सकते हैं.

(3) बॉयोमीट्रिक्स को लॉक/अनलॉक करना-आधार नंबर धारक बॉयोमीट्रिक लॉक के द्वारा अपने बॉयोमीट्रिक्‍स प्रमाणीकरण को सुरक्षित रख सकते हैं. एक बार लॉक किए जा चुके बायोमीट्रिक्‍स को किसी अन्‍य के द्वारा प्रमाणीकरण हेतु उपयोग नहीं किया जा सकता है. निवासी अपनी कोई भी बायोमीट्रिक्‍स प्रमाणीकरण गतिविधि करने से पूर्व अपने बायोमीट्रिक्‍स को अनलॉक कर सकते हैं.
(4) आधार कार्ड और बैंक खाते के साथ जुड़ा या नहीं ऐसे करें जांच-आधार नंबर धारक अपने बायोमीट्रिक प्रमाणीकरण सुरक्षित कर सकते हैं. आधार कार्डधारक जांच कर सकते हैं कि क्‍या उनका आधार कार्ड उनके बैंक खाते से जुड़ा हुआ है. आधार लिंक स्थिति को एनपीसीआई सर्वर द्वारा प्रदर्शित किया गया है. यूआईडीएआई किसी भी स्थिति में, प्रदर्शित स्थिति की सत्यता के लिए जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं होगा. साथ ही यूआईडीएआई एनपीसीआई सर्वर से उपलब्‍ध करवाई गई किसी भी जानकारी का भंडारण नहीं करता है.
(5) आधार प्रमाणीकरण हिस्ट्री –आधार संख्या धारक उनके द्वारा कराए गए आधार प्रमाणन के विवरण को देख सकते हैं.

ऐसे करें अपना आधार वेरिफाई (सत्यापन)

(1) सबसे पहले आप UIDAI की वेबसाइट पर जाये. इसके बाद Verify Adhar Number पर क्लिक करे.
(2) इसके बाद आपको 12 नंबर वाला आधार नंबर डालना होगा.
(3) इसके बाद वहां दिया सिक्योरिटी कोड डालना होगा.
(4) ये दोनों काम करने के बाद आपको वेरिफाइ पर क्लिक करना होगा.
(5) इसके बाद आपके सामने नतीजा आ जाएगा कि आपका आधार नंबर वैलिड या नहीं.

कैसे करें मोबाइल नंबर वेरिफाई

(1) सबसे पहले यूआईडीएआई की वेबसाइट https://uidai.gov.in/ पर जाएं.
(2) इसके बाद Verify Email/Mobile Number पर क्लिक करें.
(3) इसके बाद आधार नंबर और मोबाइल नंबर डालें और फिर सिक्योरिटी कोड डालें.
(4) इसके बाद Get One Time Password पर क्लिक करें.
(5) आपको फोन पर एक एसएमएस आएगा, जिसमें आधार मोबाइल वेरिफिकेशन कोड होगा.
(6) इसके बाद वन टाइम पासवर्ड को ओटीपी की जगह डालकर Verify OTP पर क्लिक करे.
(7) इतना करते ही आपको मोबाइल नंबर वेरिफेकिशन सफल होने का संदेश आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाई देने लगेगा.

कैसे वेरिफाई करें ईमेल एड्रेस?

(1) सबसे पहले यूआईडीएआई की वेबसाइट https://uidai.gov.in/ पर जाएं.
(2) ईमेल एड्रेस को वेरिफाई करने के लिए भी Verify Email/Mobile Number के लिंक पर जाना होगा.
(3) इसके बाद अपना आधार नंबर, ईमेल एड्रेस और सिक्योरिटी कोड डालें.
(4) इसके बाद Get One Time Password पर क्लिक करें.
(5) आपको फोन पर एक एसएमएस आएगा, जिसमें आधार मोबाइल वेरिफिकेशन कोड होगा.
(6) यही मैसेज आपके ईमेल एड्रेस पर भी आएगा.
(7) इसके बाद वन टाइम पासवर्ड को ओटीपी की जगह डालकर Verify OTP पर क्लिक करें. इतना करते ही आपको मोबाइल नंबर वेरिफेकिशन सफल होने का संदेश आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाई देने लगेगा.

आधार और उसके दुरुपयोग पर महत्वपूर्ण प्रश्नो की जानकारी खुद UIDI ने दिया :

1) UIDAI में बॉयोमीट्रिक्स, बैंक खाता, पैन इत्यादि सहित मेरा सभी डेटा है। क्या उनका उपयोग मेरी गतिविधियों को ट्रैक करने के लिए किया जाएगा?
नहीं, बिल्कुल झूठ, यूआईडीएआई डेटाबेस में केवल निम्नलिखित जानकारी है –
(ए) आपका नाम, पता, डीओबी, लिंग, जन्म तिथि
(बी) दस उंगली प्रिंट, दो आईआरआईएस स्कैन, चेहरे की तस्वीर
(सी) मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी।

2) लेकिन जब मैं अपने बैंक खाते, शेयर, म्यूचुअल फंड और आधार के साथ अपने मोबाइल फोन को जोड़ता हूं, तो क्या यूआईडीएआई को यह जानकारी नहीं मिलेगी?
नहीं, बिल्कुल नहीं। जब आप अपने बैंकों को आधार संख्या देते हैं, म्यूचुअल फंड कंपनियां, मोबाइल फोन कंपनियां, वे आपकी पहचान के सत्यापन के लिए केवल आधार संख्या, आपके बायोमेट्रिक्स (प्रमाणीकरण के समय पर दिए गए) और आपके नाम आदि को UIDAI को भेजते हैं। वे आपके बैंक खाते या इसके विवरण यूआईडीएआई को नहीं भेजते हैं।

3) अगर किसी को मेरा आधार नंबर पता चल जाता है, तो वे इसका उपयोग मेरे बैंक खाते को हैक करने के लिए कर सकते हैं?
नहीं, बिल्कुल झूठ, केवल अपने एटीएम कार्ड नंबर को जानकर, कोई भी एटीएम मशीन से पैसे वापस नहीं ले सकता है। किसी भी लेनदेन के लिए इसमें पिन / ओटीपी की आवश्यकता होती है।

4) मुझे अपने सभी बैंक खातों को आधार के साथ जोड़ने के लिए क्यों कहा जा रहा है?
ये आपकी सुरक्षा के लिए, सभी बैंक खाता धारकों की पहचान सत्यापित करना और उन्हें धोखाधड़ी, मनी-लॉन्डरर्स, अपराधियों आदि द्वारा संचालित खातों को कम करने के लिए आधार से लिंक करना आवश्यक है।

5) मुझे आधार के साथ अपने मोबाइल नंबरों को सत्यापित करने और लिंक करने के लिए क्यों कहा जा रहा है?
अपने देश सुरक्षा और अपनी सुरक्षा के लिए, यह पाया गया है कि ज्यादातर अपराधियों और आतंकवादियों को, आपकी जानकारी के बिना फर्जी और यहां तक ​​कि वास्तविक लोगों के नाम पर सिम कार्ड जारी किए जाते हैं और धोखाधड़ी और अपराध करने के लिए उनका उपयोग करते हैं।

6) क्या मोबाइल कंपनी सिम सत्यापन के समय मेरे बायोमेट्रिक्स को स्टोर कर सकती है और बाद में अन्य प्रयोजनों के लिए इसका इस्तेमाल कर सकती है?
कोई भी, जिसमें मोबाइल फोन कंपनियां आधार सत्यापन और लिंकिंग के समय आपके बॉयोमीट्रिक्स को स्टोर नहीं कर सकती हैं। यह आधार अधिनियम 2016 के तहत इस प्रावधान का कोई भी उल्लंघन एक दंडनीय अपराध है।

7) क्या एनआरआई को बैंकिंग, मोबाइल, पैन और अन्य सेवाओं के लिए आधार चाहिए?
आधार केवल भारत के निवासियों के लिए है। एनआरआई आधार पाने के लिए योग्य नहीं हैं।

8) कुछ एजेंसियां ​​ई-आधार स्वीकार नहीं कर रही हैं। वे मूल आधार पर जोर देते हैं। क्या करे?
यूआईडीएआई वेबसाइट से (डाउनलोड आधार भी ) यूआईडीएआई द्वारा जारी मूल आधार के रूप में कानूनी रूप से मान्य है।

विस्तृत जानकारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए यूआईडीएआई वेबसाइट पर जाएं।

Tags : आधार कार्ड निकालना, आधार कार्ड में सुधार, आधार कार्ड की जानकारी, आधार कार्ड चेक, आधार कार्ड देखे mobile, आधार कार्ड अब ऑनलाइन, आधार कार्ड कैसे डाउनलोड करे, आधार कार्ड देखे नाम से

Sponsored

Subscribe us via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 191 other subscribers

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.