नक्षत्र कितने होते है और उनका चन्द्रमा के घटने और बढने से क्या सम्बन्ध है?

कहते है हिन्दू धर्म में, एक धर्म से बढ़कर मनुष्य के जीने की कला निहित है. हिन्दू धर्म में प्रकृति को ही सब कुछ माना गया है. नीचे आपको पता लगेगा इन निम्न बिंदुयो का.

  • हिन्दू धर्म में कितने नक्षत्र होते है और वो क्या है ?
  • नक्षत्रो का चन्द्रमा के घटने और बढने से क्या सम्बन्ध है ?
  • कैसे चन्द्रमा हुए श्राप मुक्त ?

शिव महापुराण की कहानी के अनुसार प्राचीन काल में राजा दक्ष ने अश्विनी समेत अपनी 27 कन्याओं का विवाह चंद्रमा से किया था | ये वही कन्याये है जिन्हें आज 27 नक्षत्र के नाम से जाना जाता है | 27 कन्याओं का पति बनके चंद्रमा बेहद प्रसन्न थे | कन्याएं भी चंद्रमा को वर के रूप में पाकर अति प्रसन्न थीं | लेकिन ये प्रसन्नता ज्यादा दिनों तक कायम नहीं रह सकी | क्योंकि कुछ दिनों के बाद चंद्रमा उनमें से एक रोहिणी पर ज्यादा मोहित हो गए | चन्द्रमा अपना सबसे ज्यादा समय सिर्फ रोहिणी को ही देते थे, जिससे की अन्य कन्याये दुखी रहने लगी |

हिन्दू धर्म में कितने नक्षत्र होते है ?

Sr. No Nakshtra English Name Nakshtra Hindi Name
1 Ashvini/Aswini अश्विनी
2 Bharani भरणी
3 Krittika/Krithika कृत्तिका
4 Rohini रोहिणी
5 Mrigashirsha मृगशीर्ष
6 Ardra आर्द्रा
7 Punarvasu पुनर्वसु
8 Pushya पुष्य
9 Ashlesha आश्ळेषा/आश्लेषा
10 Magha मघा
11 Purva Phalguni पूर्व फाल्गुनी
12 Uttara Phalguni उत्तर फाल्गुनी
13 Hasta हस्त
14 Chitra चित्रा
15 Swati स्वाति
16 Vishakha विशाखा
17 Anuradha अनुराधा
18 Jyeshtha ज्येष्ठा
19 Mula मूल
20 Purva Ashadha पूर्वाषाढा
21 Uttara Ashadha उत्तराषाढा
22 Shravana श्रवण
23 Dhanishtha श्रविष्ठा/धनिष्ठा
24 Shatabhisha शतभिषक्/शततारका
25 Purva Bhadrapada पूर्वभाद्रपदा/पूर्वप्रोष्ठपदा
26 Uttara Bhadrapada उत्तरभाद्रपदा/उत्तरप्रोष्ठपदा
27 Revati रेवती

ये बात जब राजा दक्ष को पता चली तो वो चंद्रमा को समझाने गए। चंद्रमा ने उनकी बातें सुनीं, लेकिन कुछ दिनों के बाद फिर रोहिणी पर उनकी आसक्ति और तेज हो गई | जब राजा दक्ष को ये बात फिर पता चली तो वो क्रोध में चंद्रमा के पास गए | उन्होंने कहा कि ‘मैं तुम्हें पहले भी समझा चुका हूं | लेकिन लगता है तुम पर मेरी बातों का कोई प्रभाव नहीं पड़ा, इसलिए मैं तुम्हें श्राप देता हूं कि तुम क्षयरोग से पीड़ित हो जाओगे जिस शरीर और अपने तेज पर इतना घमंड है वो नष्ट हो जायेगा. |’ राजा दक्ष के इस श्राप के तुरंत बाद चंद्रमा क्षयरोग से ग्रस्त होकर धूमिल हो गए | उनकी रोशनी जाती रही |

 

कैसे चन्द्रमा हुए श्राप मुक्त ?

ये देखकर ऋषि मुनि बहुत परेशान हुए | इसके बाद सारे ऋषि मुनि और देवता इंद्र के साथ भगवान ब्रह्मा की शरण में गए | ब्रह्मा जी ने उन्हें एक उपाय बताया | उपाय के अनुसार चंद्रमा को सोमनाथ में भगवान शिव का तप करना था और उसके बाद ब्रह्मा के अनुसार, भगवान शिव के प्रकट होने के बाद वो दक्ष के श्राप से मुक्त हो सकते थे |

चंद्रमा ने ब्रह्मा द्वारा बताए गए उपायों का अनुसरण किया | वे छह महीने तक शिव की कठोर तपस्या करते रहे | चंद्रमा की कठोर तपस्या को देखकर भगवान शिव प्रसन्न हुए | भगवान शिव ने चंद्रमा को दर्शन देकर वर मांगने को कहा | चंद्रमा ने वर मांगा कि ‘हे भगवन, अगर आप मुझसे प्रसन्न हैं तो मुझे इस क्षयरोग से मुक्ति दीजिए और मेरे सारे अपराधों को क्षमा कर दीजिए’ | भगवान शिव ने कहा कि ‘तुम्हें जिसने श्राप दिया है वो भी कोई साधारण व्यक्ति नहीं है | लेकिन इस श्राप का मध्य का मार्ग निकालने का पूरा प्रयास कंरूगा |’

शिव इस श्राप का मध्य का मार्ग निकालते हुए चंद्रमा से कहते हैं कि ‘एक माह में दो पक्ष होते हैं, उसमें से एक पक्ष में तुम निखरते जाओगे | लेकिन दूसरे पक्ष में तुम क्षीण भी होओगे | अर्थात तुम्हारी रोशनी कम होती जाएगी | ये पौराणिक रहस्य है चंद्रमा के शुक्ल और कृष्ण पक्ष का जिसमें एक पक्ष में वो बढ़ते हैं और दूसरे में वो घटते जाते हैं |

शिव जी वरदान के बाद चंद्र देव लुप्त होने के बाद बढने लगते है और जैसे ही वो सम्पूर्ण रूप में आते है तो दक्ष के श्राप के कारण वो कम होने लगते है. तबसे उनका ये क्रम आज तक चल रहा है.

इस दौरान चंद्रमा 27 दिनों तक हर नक्षत्र में जाते है, जब चन्द्रमा अपने सम्पूर्ण रूप में होते है तब वह रोहिणी नक्षत्र में होते है.